Big-Story – On Anti Smoking – Don’t Smoke (Hug) the Drugs, It will suck your blood & make you a Dead…


KhabarSpecial Presents “Big-Story – On Anti Smoking”

हर वर्ष मई 31 “विश्व तंबाकू निषेध दिवस” (वर्ल्ड नो टोबाको डे, World No Tobacco Day) के रूप में मनाया जाता है. धूम्रपान का डिमेंशिया के साथ भी सम्बन्ध है, इसलिए मैंने सोचा कि इस विषय पर अपने ब्लॉग पर कुछ लिखूं. फिर लगा, धूम्रपान के हानिकारक होने पर मीडिया में अक्सर चर्चा होती है और कई व्यक्ति इस आदत से छुटकारा भी चाहते हैं, इसलिए इस ब्लॉग पोस्ट में मैंने धूम्रपान कैसे छोड़ें (धूम्रपान विरति, स्मोकिंग सेसेशन, smoking cessation) पर ज्यादा फोकस करा है:

Individuals who smoke one heap of cigarettes a day develop an ordinary of 150 extra changes in their lungs reliably, experts have forewarned.

सिगरेट के हर कश में कई जहरीले पदार्थ होते हैं, और जब कोई धूम्रपान करता है तो उसके शरीर को इन पदार्थों के कारण हो रही हानि को रिपेयर करना पड़ता है. यदि व्यक्ति कुछ देर धूम्रपान न करे तो उसके शरीर को इस रिपेयर के लिए कुछ ज्यादा टाइम मिल पाता है. कुछ घंटे, कुछ दिन, कुछ हफ्ते, जितना भी टाइम व्यक्ति धूम्रपान से दूर रह पाता है, उतना ही अच्छा होता है. धूम्रपान किसी भी उम्र में छोड़ें (या कम करें), स्वास्थ्य में फायदा होगा.

khabarspecial-smoking

The most important change rates were found in the lung malignancies yet tumors in various parts of the body in like manner contained these smoking-related changes, illuminating how smoking causes various sorts of human sickness – got on by changes the KhabarSpecial of a cell.

The study gives a prompt association between the amount of cigarettes smoked in a lifetime and the amount of changes in the tumors KhabarSpecial.

khabarspecial-smoking1

तम्बाकू इंसान के लिए हानिकारक है लेकिन फिर भी हम इसका सेवन करने से बाज नहीं आते है। लेकिन क्या आप जानते है कि हर साल तम्बाकू के सेवन से लगभग 6 मिलियन लोग मौत के नींद सो जाते हैं।कि धुम्रपान करने से हमें फेफड़ों का कैसर हो सकता है, लेकिन क्या आप ये जानते है कि धूम्रपान करने से आपकी त्वचा और सहनशक्ति पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है। धूम्रपान करने से दिल के साथ-साथ जीवन पर भी बुरा असर पड़ता है।

smoking-kills

  1. आपका धुम्रपान सबके स्वास्थ्य के लिये हानिकारक है.
  2. एक दो, एक दो बीडी सिगारेट छोड दो.
  3. आप सिगरेट को नहीं…सिगरेट आपको पीती है. इसका नतीजा सिर्फ मोत है.
  4. नशे को छोड़ दो! जीवन को मोड दो! जहरीली से नताही तोड दो!!
  5. You Are A Fool, If You Think Smoking Is Cool.
  6. Smoking Damages The Tissues In Your Penis So Think About It….
  7. Smoking Kills 15,000 + People Everyday…. Stop It Now
  8. Stop Smoking And Stay Healthy.

धूम्रपान हानिकारक है, यह सन्देश कई जगह मौजूद है

धूम्रपान हानिकारक है, यह बताने और याद दिलाने के लिए अनेक सन्देश रोज हमारे सामने आते रहते हैं. सिगरेट के पैक पर मोटे मोटे अक्षरों में चेतावनी लिखी होती है. टीवी और फिल्मों में डरावने चित्र और सन्देश होते हैं. टीवी के हरेक प्रोग्राम में अगर स्क्रीन पर कहीं भी कोई भी किरदार सिगरेट सुलगाता है तो तुरंत नीचे सन्देश आ जाता है कि धूम्रपान और तंबाकू मौत का कारण हैं, या “Smoking/ tobacco kills.” या “Smoking is injurious to health. It causes cancer”, इत्यादि.

इसके अलावा अब सार्वजनिक स्थलों पर धूम्रपान निषेध है. होटलों में, हवाईजहाज में, ऑफिस में, अस्पतालों में, अनेक जगह धूम्रपान पर सख्त मनाई है, और धूम्रपान करने पर फाइन हो सकता है. जगह जगह ऐसे निषेध के नोटिस यह याद दिलाते हैं कि धूम्रपान के कई नुकसान हैं–धूम्रपान करने वाले के लिए तो नुकसान है ही, सेकेण्ड-हैंड स्मोक के कारण आस-पास वालों को भी नुकसान है. लोग भी ज्यादा सचेत हैं. कई बार आस पास के लोग व्यक्ति से कह देते हैं कि कृपया यहाँ सिगरेट न जलाएं, हमें धुआँ पसंद नहीं है/ यह नो-स्मोकिंग एरिया है.

धूम्रपान की लत से कैसे मुक्त हों (How to got relax from Smoking) 

पक्का इरादा जरूरी है. लत छोड़ने में कई दिक्कतें आयेंगी और व्यक्ति को अपने दिनचर्या बदलना होगा, शायद कुछ पुराने मित्र भी छूट जाएँगे. सिगरेट की लालसा बार-बार उठेगी, और शारीरिक और मानसिक तकलीफ होगी. दृढ़ निश्चय न हो तो इतनी मेहनत नहीं हो पायेगी.

प्लैन बनाएँ: सिलसिला पक्के इरादे से शुरू होता है, पर साथ साथ पूरी जानकारी प्राप्त करके एक योजना बनानी होगी. इसे क्विट स्मोकिंग प्लैन–Quit Smoking Plan– भी कहते हैं.

धूम्रपान बंद करने के लिए अनेक तरीके (method) हैं, और व्यक्ति को अपनी स्थिति और पसंद के अनुसार इनको मिला कर अपने लिए उपयुक्त योजना बनानी होगी. कुछ आम तरीके हैं — कोल्ड टर्की (अचानक बंद करना, cold turkey), धीरे धीरे कम करना (cut down to quit), दवाई की सहायता से बंद करना (जैसे कि निकोटीन प्रतिस्थापन चिकित्सा, अवसादरोधी, अन्य दवाइयाँ– nicotine replacement therapy, antidepressants, varenicline, clonidine, etc.) सम्मोहन (hypnosis), स्वयं की मदद (self-support), सहायता समूह (community support), सहायक सेवाएं (counselling, quitlines, mobile apps), धार्मिक संस्थाओं की सहायता लेना, क्लीनिक ज्वाइन करना, वगैरह.

किस व्यक्ति के लिए कौन सा तरीका ठीक बैठेगा, यह व्यक्ति की परिस्थितियों और स्वभाव पर निर्भर है. कुछ लोग स्वयं के लिए एक क्विट स्मोकिंग डे निर्धारित करके निश्चय करते हैं कि उस दिन के बाद एक भी सिगरेट न जलाएंगे–यह कोल्ड टर्की (अचानक बंद करना, cold turkey) है. कुछ व्यक्ति धीरे धीरे कम करने वाला तरीका पसंद करते हैं (cut down to quit)–रोज के चार पैकेट से तीन पैकेट करना, फिर दो, फिर एक, फिर आधा, फिर शून्य. विद्ड्रॉल लक्षण (Withdrawal symptoms) संभालने के लिए कुछ व्यक्ति दवाई लेते हैं. कुछ व्यक्ति पुराने मित्रों से दूर हो जाते हैं क्योंकि उनके साथ उठने बैठने में सिगरेट का प्रलोभन बहुत ज्यादा रहता है. कुछ व्यक्ति परिवार और मित्रगण की सहायता और प्रोत्साहन से छोड़ने की कोशिश करते हैं.

धूम्रपान बंद करना एक अत्यंत चुनौतीपूर्ण काम है. पक्का इरादा तो चाहिए ही. साथ साथ, धूम्रपान छोड़ने में किस प्रकार की दिक्कतें होंगी, यह सोच-समझ कर “क्विट स्मोकिंग” योजना बनाने से कामयाबी का चांस ज्यादा होता है.

उपयोगी जानकारी और मदद कहाँ और कैसे ढूंढ़ें

सौभाग्यवश, आजकल धूम्रपान की लत को पछाड़ना पर जानकारी के कई साधन उपलब्ध हैं. मदद के लिए भी कई साधन हैं.

तंबाकू सेवन/ धूम्रपान बंद करने के लिए सहायता का एक रूप है धूम्रपान विरति क्लीनिक (Tobacco cessation clinic, smoking cessation clinic, quit smoking clinic). ऐसे क्लीनिक बड़े अस्पतालों में अलग से एक डीएडिक्शन सेंटर (de-addiction center)/ नशा मुक्ति क्लीनिक के रूप में मिल सकते हैं, या अस्पताल के कैंसर डिपार्टमेंट या मनोचिकित्सा डिपार्टमेंट में भी हो सकते हैं. क्लीनिक अक्सर हफ्ते में एक या दो बार होते हैं. कई कैंसर सहायक संस्थाएं भी इस कार्य में लोगों की सहायता करती हैं. व्यक्ति डॉक्टर या अन्य विशेषज्ञों से भी परामर्श ले सकते हैं, या सपोर्ट ग्रुप (support group) में, आपस में अनुभव और सुझाव बाँट सकते हैं और एक दूसरे को प्रोत्साहन भी दे सकते हैं. इस प्रकार के सपोर्ट ग्रुप से व्यक्ति खुद को अकेला नहीं समझते क्योंकि वे एक समुदाय का हिस्सा बन जाते हैं.

किसी शहर में क्लीनिक कहाँ है, यह जानने के लिए गूगल पर “Tobacco cessation” “smoking cessation” के साथ उस शहर या प्रांत का नाम टाइप करके खोज सकते हैं. शहर के बड़े अस्पतालों से सम्पर्क करें. आपके डॉक्टर भी शायद बता पाएँ कि उचित सलाह कहाँ मिलेगी, और सपोर्ट ग्रुप कहाँ हैं. कैंसर समर्थक संस्थाओं से भी पूछ सकते हैं.

इन्टरनेट पर धूम्रपान छोड़ने के लिए जानकारी और मदद के अनेक संसाधन हैं. कैंसर संस्थाओं के वेबसाइट पर अक्सर इस विषय पर लेख मिलते हैं. एक उदाहरण: मुम्बई स्थित कैंसर पेशेंट्स एड एसोसिअशन के वेबसाइट पर हिंदी में एक अत्यंत उपयोगी पत्रिका उपलब्ध है: धूम्रपान कैसे छोड़ें (PDF file). अन्य विश्वसनीय स्वास्थ्य संबंधी साईट पर भी इस विषय पर चर्चा मिलती है. कुछ स्वास्थ्य संबंधी संस्थाओं के वेबसाइट पर तो एक पूरा सेक्शन धूम्रपान पर होता है

कुछ संस्थाएं और उनके साईट सिर्फ धूम्रपान छोड़ने वालों के लिए स्थापित करी गयी हैं हैं, और कई सहायक सेवाएं भी देती हैं. आजकल लोगों को दिन भर समय समय पर याद दिलाने के लिए और प्रोत्साहित करने के लिए मोबाइल ऐप भी हैं!! जानकारी गूगल पर “Tobacco cessation” या “smoking cessation” टाइप करके खोजी जा सकती हैं.

कुछ लिंक (Some Links are here)…..

  • विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर जानकारी (World No Tobacco Day): अंग्रेज़ी विकिपीडिया पर पृष्ठ: World No Tobacco Day, विश्व स्वास्थ्य
    संस्थान के वेबसाइट पर पृष्ठ: World No Tobacco Day 2015
  • यदि आप Tobacco cessation clinic शुरू करना चाहते हैं तो बेंगलुरु के NIMHANS द्वारा उपलब्ध यह डाक्यूमेंट देखें/ डाउनलोड करें: Starting Tobacco Cessation Services

 

नोट: KhabarSpecial पर जानकारी और लिंक सिर्फ आपकी सुविधा के लिए हैं; यह चिकित्सीय सलाह नहीं, और न ही किसी संसाधन को रेकोमेंड करा जा रहा है. किसी भी तरीके या संस्था की सच्चाई और उपयुक्तता को जांचना आपकी जिम्मेदारी है